आर्मी में जाने के लिए कितने परसेंट चाहिए | Army Me Jane Ke Liye Kitne Percentage Chahiye

आर्मी में जाने के लिए कितने परसेंट चाहिए | Army Me Jane Ke Liye Kitne Percentage Chahiye: आज के समय में अगर देखा जाए तो भारतीय सशस्त्र सेना को दुनिया के सबसे ताकतवर सेनाओं में से एक माना जाता है हर साल लाखों-करोड़ों विद्यार्थियों का सपना होता है इंडियन आर्मी में जाने का पूर्वा इंडियन आर्मी में जाने के लिए रात दिन कड़ी मेहनत करता है।

अंत में वह एक आर्मी की पोस्ट भी हासिल कर लेता है ऐसे में क्या आप भी भारतीय के सबसे ताकतवर सेनाओं में से एक बनना चाहते हैं या इंडियन आर्मी में जाना चाहते हैं लेकिन आपको इंडियन आर्मी में जाने के लिए कितने परसेंटेज चाहिए, इंडियन आर्मी क्या होता है, इंडियन आर्मी के कौन-कौन से काम होते हैं आदि जैसे इन सवालों का जवाब जवाब पाने के लिए इस आर्टिकल को अंदर तक पढ़े।

आर्मी में जाने के लिए कितने परसेंट चाहिए | Army Me Jane Ke Liye Kitne Percentage Chahiye

इस आर्टिकल में हमने ऊपर दिए गए सवालों का जवाब विस्तारपूर्वक से सरल भाषा में नीचे बताया है मैं आपको विश्वास दिलाता हूं की इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपका हर सवालों का जवाब पंजाब स्पष्ट रूप से मिल जाएगी।

Table of Contents

आर्मी में जाने के लिए कितने परसेंट चाहिए (Army Me Jane Ke Liye Kitne Percentage Chahiye)

आर्मी में जाने के लिए कैंडिडेट के द्वारा लाए जाने वाले परसेंटेज नीचे निम्नलिखित प्रकार से दर्शाया गया है:–

  • आर्मी में जाने के लिए युवा कैंडिडेट को दसवीं कक्षा में न्यूनतम 45 परसेंटेज अंक लाना अति आवश्यक होता है।
  • आर्मी में जाने के लिए युवा कैंडिडेट को 12वीं कक्षा में पीसीबी (PCB) सब्जेक्ट के साथ मान्यता प्राप्त करना होता है।
  • 12वीं कक्षा में युवा कैंडिडेट को 60% अंक लाना अति आवश्यक होता है तभी जाकर किया युवा कैंडिडेट इंडियन आर्मी के लिए योग्य होंगे।
  • अलग-अलग राज्यों में युवा कैंडिडेट के द्वारा 12वीं कक्षा में पीसीएम सब्जेक्ट के साथ मान्यता प्राप्त अंगों के आधार पर ही उम्मीदवारों का चयन किया जाता है।

इंडियन आर्मी क्या है (Indian Army Kya Hai)

इंडियन आर्मी भारतीय युवाओं द्वारा आयोजित एक सबसे बड़ा ताकतवर और देश रक्षक संगठन है जिसका संचालन राष्ट्रपति के द्वारा किया जाता है इंडियन आर्मी 1 अप्रैल 1995 यानी कि 125 वर्ष पुराना  संगठन है और इंडियन आर्मी को तीन भागों में बांटा गया है जो कि नीचे इस प्रकार है:- 

  • थल सेना (Indian Army)
  • जल सेना (Indian Navy)
  • वायु सेना (Indian Airforce)

दसवीं सदी से लेकर के अठारहवीं सदी तक भारत देश काफी सारे राज्यों के अधीन रहा जबकि भारत को दुनिया में शक्तिशाली तथा समृद्ध माना जाता था। सर्वप्रथम चौथी शताब्दी में भारतीय सैनिकों का नियोजन थल सेना के रूप में किया गया था जिसमें हाथी, घोड़े और युद्ध के लिए सेनाओं को पैदल जाना होता तो था इसके पश्चात भारत में पुर्तगालियों के समुद्र तट के रास्ते से आने के बाद नौसेना का नियोजन किया गया।

भारतीय थल सेना (Indian Army)

जैसे कि ऊपर हमने बताया कि भारतीय थल सेना का नियोजन सर्वप्रथम चौथी शताब्दी में किया गया था जहां युद्ध के लिए हाथी और घोड़े भी होते थे और सैनिकों को युद्ध के मैदान में पैदल से जाना होता था।

भारतीय थल सेना को भारत की सबसे बड़ा अंग तथा ताकत माना जाता है जिसका प्रधान सेनापति भारत के राष्ट्रपति को माना जाता है तथा भारतीय थल सेना की कमान भारतीय थल सेना अध्यक्ष के पास होता है जिसे हम जनरल पदाधिकारी भी कह सकते हैं सा ही इनके पास चार सितारा वाला यूनिफॉर्म भी होता है। भारतीय सेना में पांच सितारा वाले फील्ड मार्शल की रैंक के पदाधिकारी होते हैं जिसकी भारत में सर्वश्रेष्ठ सम्मान दिया जाता है।

भारतीय जल सेना (Indian Navy)

भारतीय नौसेना ईस्ट इंडिया कंपनी युद्धकारिणी 1612 ई. में इंडियन मेरीन संगठित किया गया और 1650 से शुरू में इन्हें मुंबई मेरी का नाम दिया गया जोकि 1830 ई. तक चला और 18 सितंबर 1934 ई. को भारतीय विधानसभा में भारतीय नौसेना के अनुसार नियम लागु किया गया और रॉयल इंडिया नेवी का प्रादुर्भाव किया गया।

भारतीय नौसेना की प्रधान सेनापति राष्ट्रपति को माना जाता है भारतीय नौसेना को भारतीय सेना का सबसे बड़ा अंग माना जाता है तथा भारतीय नौसेना भारत की संस्कृति तथा सभ्यता के साथ साथ समुद्री सीमाओं की भी रक्षा करती है।

भारतीय वायुसेना (Indian Airforce)

द्वितीय विश्वयुद्ध के पश्चात 1913 ई. में भारतीय वायुसेना का गठन किया गया सर्वप्रथम इसका शुरुआत उत्तर प्रदेश के उड्डयन सैनिक स्कूल के साथ किया गया एंव भारतीय सेना की व्युत्पत्ति ब्रिटिश सेना से हुई है।

भारतीय वायुसेना की स्थापना 8 अक्टूबर 1932 ईस्वी को क्या गया भारतीय वायुसेना को इससे पहले रॉयल इंडिया के एयरफोर्स के नाम से विकसित था 1945 ई. में द्वितीय विश्वयुद्ध में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई तथा भारतीय वायु सेना को भारत के सशस्त्र सेनाओं में से एक माना जाता है।

भारतीय वायु सेना का अगर कार्य के बारे में उल्लेख किया जाए तो इनका मुख्य कार्य वायु सुरक्षा, वायु युद्ध तथा वायु चौकसी होता है। 

इंडियन आर्मी में जाने के लिए कौन-कौन से पद होते हैं (Indian Army Job List In Hindi)

इंडियन आर्मी में जाने के लिए युवा कैंडिडेट के पास काफी सारे विकल्प होते हैं जिनमें से कुछ विकल्प नीचे निम्नलिखित प्रकार से दर्शाया गया है:-

  • लांस नायक
  • हवलदार
  • ब्रिगेडियर
  • लेफ्टिनेंट
  • सिपाही
  • जनरल
  • नायक
  • मेजर
  • सूबेदार
  • कैप्टन
  • कर्नल
  • फील्ड मार्शल
  • सूबेदार मेजर
  • नायब सूबेदार
  • मेजर जेनरल
  • लेफ्टिनेंट जनरल
  • कमिश्नर ऑफिसर
  • लेफ्टिनेंट कर्नल
  • जूनियर कमिशनर ऑफिसर
  • नॉन कमिश्नर ऑफिसर

इंडियन आर्मी कैसे बनें (Indian Army Kaise Bane)

इंडियन आर्मी बनने के लिए युवा कैंडिडेट को निम्नलिखित प्रक्रिया का पालन करना होता है जो कि इस प्रकार से है:–

  • 12वीं कक्षा में मान्यता प्राप्त होना चाहिए।
  • इंडियन आर्मी के लिए निकाली गई वैकेंसी के लिए आवेदन करना होता है।
  • इंडियन आर्मी के लिए एग्जाम की तैयारी करें।
  • इंडियन आर्मी के लिए आयोजित परीक्षा में मान्यता प्राप्त करना होता है।
  • इंडियन आर्मी के लिए फिजिकल टेस्ट को पास करना होता है।
  •  इंडियन आर्मी में जाने के लिए मेडिकल टेस्ट को पास करना होता है।
  • इंडियन आर्मी में जाने के लिए लिखित परीक्षा को पास करना होता है।

इंडियन आर्मी के लिए योग्यता कितनी होनी चाहिए?

युवा कैंडिडेट को इंडियन आर्मी में जाने के लिए निम्नलिखित योग्यता क होना अति अनिवार्य माना जाता है जो इस प्रकार से है:–

  • इंडियन आर्मी में जाने के लिए उम्मीदवार को 12वीं कक्षा की पास होनी चाहिए।
  • उम्मीदवार भारत के निवासी होना चाहिए।
  • उम्मीदवार अविवाहित होनी चाहिए।
  • उम्मीदवार की आंखों कि रोशनी 6-6 होना चाहिए।
  • उम्मीदवार की ऊंचाई 170 सेंटीमीटर लगभग की होनी चाहिए।
  • कैंडिडेट की वजन न्यूनतम 50kg कि होनी चाहिए।
  • कैंडिडेट शरीर मानसिक रूप से स्वस्थ होना चाहिए।
  • कैंडिडेट की छाती की चौड़ाई न्यूनतम 77 सेंटीमीटर तक की होनी चाहिए।
  • अगर आप विभिन्न पोस्ट के लिए अप्लाई करना चाहते हैं।
  • 12 वीं की कक्षा में मान्यता प्राप्त करने से कैंडिडेट को NDA पोस्ट में आवेदन करने का मौका मिल जाता है।
  • ग्रेजुएशन में मान्यता प्राप्त करने पर उम्मीदवार को NDA तथा CDS या TERRITORIAL ARMY के पोस्ट के लिए भी मौका मिल जाता है।
  • UPSC के द्वारा आयोजित परीक्षा में पास होना होता है।

इंडियन आर्मी के लिए कौन-कौन से टेस्ट लिए जाते हैं। (Indian Army Ke Liye Test)

इंडियन आर्मी में जाने के लिए उम्मीदवारों को पिंटरेस्ट से होकर के गुजरना होता है जो कि नीचे दर्शाए गए हैं:-

  1. फिजिकल टेस्ट
  2. मेडिकल टेस्ट 
  3. लिखित टेस्ट

फिजिकल टेस्ट (Physical Test)

महिला और पुरुष के द्वारा दिए जाने वाले फिजिकल टेस्ट निम्नलिखित होते हैं:- 

पुरुष कैंडिडेट के लिए फिजिकल टेस्ट (Male Candidate Physical Test)

  • पुरुष कैंडिडेट के लिए लंबी कूद 3.5 फीट कि होती है।
  • ऊंची कूद 12 फीट तक की होती है।
  • पुरुष कैंडिडेट के लिए 16 पौंड कि गोला फेक 16 फीट की होती है। 
  • पुरुष कैंडिडेट के लिए छाती की चौड़ाई 77 सेंटीमीटर की होती होनी चाहिए तथा 5 सेंटीमीटर की फुलावा होनी चाहिए।
  • कद की ऊंचाई 152 सेंटीमीटर होनी चाहिए।
  • उम्मीदवार की वजन 50 KG तक की होनी चाहिए।

महिला कैंडिडेट के लिए फिजिकल टेस्ट (Female Candidate Physical Test)

  • महिला कैंडिडेट की इंडियन आर्मी में जाने के लिए लंबी कूद 3 फीट की होनी चाहिए।
  • महिला कैंडिडेट के लिए ऊंची कूद 10 फीट की होनी चाहिए।
  • महिला कैंडिडेट के लिए गोला फेक 10 फिट की होती है जबकि गोला की वजन 12 पौंड की होती है। 
  • महिला कैंडिडेट के लिए कोई छाती की चौड़ाई का मापदंड नहीं होता है।
  • महिला कैंडिडेट कि कद 157 सेंटीमीटर की होनी चाहिए।
  • महिला कैंडिडेट की वजन 48 KG ताकि होनी चाहिए।

महिला और पुरुष कैंडिडेट के लिए फिजिकल टेस्ट पाठ्यक्रम विवरण

फिजिकल टेस्टपुरुष कैंडिडेटमहिला कैंडिडेट
लंबी कूद3.5 फीट 3 फीट 
ऊंची कूद12 फीट10 फीट
गोला फेक16 फीट10 फीट
छाती की चौड़ाई77 सेंमीकोई मापदंड नहीं
कद160-169 सेंमी142-150 सेंमी 
वजन50 के.जी. 48 के.जी.

Note:- पुरुष कैंडिडेट को 5 मिनट 40 सेकंड में 1600 मीटर की दौड़ कराई जाती है जबकि महिला कैंडिडेट के लिए 7 मिनट 30 सेकंड में 16 मीटर दौड़ कराई जाती है।

मेडिकल टेस्ट (Medical Test)

मेडिकल टेस्ट में पुरुष कैंडिडेट और महिला कैंडिडेट की अंगों का परीक्षण किया जाता है जो कि नीचे इस प्रकार से दर्शाया गया है:–

पुरुष कैंडिडेट के लिए मेडिकल टेस्ट (Male Candidate Medical Test)

  • मेडिकल टेस्ट में सर्वप्रथम पुरुष कैंडिडेट कि आंखों की जांच किया जाता है।
  • ब्लड ग्रुप और आवाज की जांच किया जाता है।
  • कैंडिडेट के दोनों कानों कि जांच किया जाता है।
  • वेनिस हाइड्रोसिल की परीक्षण किया जाता है। 
  • कैंडिडेट के दांतो का परीक्षण किया जाता है।
  • नॉक नी का परीक्षण किया जाता है।
  • आदि काफी सारे गुप्त परीक्षण भी किया जाता है।

महिला कैंडिडेट के लिए मेडिकल टेस्ट (Female Candidate Medical Test)

  • पुरुष कैंडिडेट की तरह महिला कैंडिडेट की भी आंखों का परीक्षण किया जाता है।
  • ब्लड ग्रुप और आवाज की प्रशिक्षण भी लिया जाता है।
  • महिला कैंडिडेट के दोनों कानों का परीक्षण किया जाता है
  • महिला कैंडिडेट के लिए अल्ट्रासाउंड करके गर्भ और पेट कि परीक्षण किया जाता है।
  • महिला डॉक्टर की प्रस्तुति में महिला कैंडिडेट की अंगों का परीक्षण किया जाता है।
  • आदि का परीक्षण किया जाता है।

लिखित परीक्षा (Written Test)

फिजिकल टेस्ट में उम्मीदवार की 4 विषय की लिखित परीक्षा लिए जाते जिसमें अंक निर्धारित किये होते हैं।

लिखित परीक्षा के पाठ्यक्रम विवरण

Subjects Questions Marks
Mathematics and Reasoning3030
General Knowledge3030
General Science4030
Total 10090

ALSO READS:–

इंडियन आर्मी के लिए उम्र सिमा (Indian Army Age Limit In Hindi)

इंडियन आर्मी में जाने के लिए उम्मीदवार की न्यूनतम आयु सिमा 17.5 वर्ष तथा अधिकतम आयु सीमा 21 वर्ष तक की होनी चाहिए जबकि अलग-अलग वर्ग की उम्मीदवारों के लिए अलग-अलग आयु सीमा निर्धारित होती है जोकि निम्नलिखित प्रकार से है:–

  • जूनियर कमीशंड अधिकारी धार्मिक शिक्षक के लिए उम्र सीमा 25 से 34 वर्ष तक की होनी चाहिए।
  • मेस कीपर तथा हाउस कीपर के लिए उम्र सीमा 17.5 से 21 वर्ष तक की होनी चाहिए।
  • सैनिक सेना चिकित्सा कोर के लिए उम्र सीमा 17.5 से 21 वर्ष तक की होनी चाहिए।
  • सिपाही फार्मा के लिए उम्र सीमा 19 से 25 वर्ष तक की होनी चाहिए।
  • सैनिक के लिए उम्र सीमा 17.5 से 21 वर्ष तक की होनी चाहिए।
  • सैनिक रिमाउंट पशु चिकित्सा कोर के लिए उम्र सीमा 17.5 से 23 वर्ष तक की होनी चाहिए।
  • सैनिक ट्रेड्समैन के लिए उम्र सीमा 17.5 से 23 वर्ष तक की होनी चाहिए।
  • सैनिक टेक्निकल के लिए उम्र सीमा 17.5 से 23 वर्ष तक की होनी चाहिए।
  • जूनियर कमीशंड ऑफिसर कैटरिंग के लिए उम्र सीमा 27 से 21 वर्ष तक की होनी चाहिए। 
  • सैनिक क्लर्क के लिए उम्र सीमा 17.5 से 21 वर्ष तक की होनी चाहिए। 

इंडियन आर्मी की सैलरी कितनी होती है। ( Indian Army Ki Salary)

भारतीय सैनिक की सैलरी लगभग 21,700 से लेकर के लगभग 2,50,000 तक कि हो सकती है जबकि आर्मी में अलग-अलग पोस्ट के आधार पर अलग-अलग सैलरी निर्धारित की गई है जो कि नीचे इस प्रकार से दर्शाया गया है:–

  • हवलदार अधिकारी कि सैलेरी लगभग 5200 ले कर के लगभग 20200 तक कि हो सकती है।
  • नायक अधिकारी कि सैलेरी लगभग 5200 ले कर के लगभग 20200 तक कि हो सकती है।
  • ब्रिगेडियर अधिकारी कि सैलेरी लगभग 37400 ले कर के लगभग 67000 तक कि हो सकती है।
  • लेफ्टिनेंट जनरल अधिकारी कि सैलेरी लगभग 37400 ले कर के लगभग 67000 तक कि हो सकती है।
  • लांस नायक अधिकारी कि सैलेरी लगभग 5200 ले कर के लगभग 20200 तक कि हो सकती है।
  • नायाब सूबेदार अधिकारी कि सैलेरी लगभग 9300 ले कर के लगभग 34800 तक कि हो सकती है।
  • लेफ्टिनेंट कर्नल अधिकारी कि सैलेरी लगभग 37400 ले कर के लगभग 67000 तक कि हो सकती है।
  • सिपाही अधिकारी कि सैलेरी लगभग 5200 ले कर के लगभग 20200 तक कि हो सकती है।
  • सूबेदार मेजर अधिकारी कि सैलेरी लगभग 9300 ले कर के लगभग 34800 तक कि हो सकती है।
  • सूबेदार अधिकारी कि सैलेरी लगभग 9300 ले कर के लगभग 34800 तक कि हो सकती है।
  • कर्नल अधिकारी कि सैलेरी लगभग 37400 ले कर के लगभग 67000 तक कि हो सकती है।
  • मेजर अधिकारी कि सैलेरी लगभग 15600 ले कर के लगभग 39100 तक कि हो सकती है।
  • कैप्टन अधिकारी कि सैलेरी लगभग 15600 ले कर के लगभग 39100 तक कि हो सकती है।
  • मेजर जनरल अधिकारी कि सैलेरी लगभग 37400 ले कर के लगभग 67000 तक कि हो सकती है।

इंडियन आर्मी के लिए कौन कौन से फायदे होते हैं?

भारतीय सैनिक बनने से उम्मीदवार को काफी सारी फायदे मिलते कथा सरकार की ओर से फैसिलिटी दिये जाते हैं जो कि नीचे इस प्रकार से उल्लेख किया गया है:–

  • इंडियन आर्मी ऑफिसर बनने के बाद भी आप अपने उच्च शिक्षा के सपनों को साकार कर सकते हैं।
  • इंडियन आर्मी के क्षेत्र में नौकरी करने के बाद आपको आर्थिक सुरक्षा भी दी जाती है।
  • इंडियन आर्मी ऑफिसर बनने के बाद लोग आपको सम्मान की दृष्टि से देखेंगे।
  • अधिकारियों को आवाज कार स्विमिंग पूल और गोल्फ कोर्स जैसी सुविधाओं का लाभ भी दिया जाता है।
  • इंडियन आर्मी को सैलरी के साथ-साथ आपको बीच-बीच में बोनस भी मिलते रहता है जो कि आपके आर्थिक क्रियाकलाप को ओर बढ़ाने में मदद करता है।
  • इंडियन आर्मी को नौकरी के तहत ट्रेनिंग के दौरान अनुशासन और शिष्टाचार सिखाया जाता है जो कि कैंडिडेट को पूरे जीवन में फायदा पहुंचाता है।
  • यदि इंडियन आर्मी रिटायर हो जाते हैं तो भी उन्हें अन्य नौकरी मिलने का विश्वास दिया जाता है।
  • आर्मी ऑफिसर के बच्चों को केंद्रीय विद्यालय में खास तरजीह दी जाती है।
  • फौजी और उनके परिवार के लोगों को मुफ्त चिकित्सा सुविधाएं दी जाती है।
  • इंडियन आर्मी को सैलरी भी बहुत अच्छी खासी मिलती है, जिससे आप अपने परिवार की हर इच्छा पूरी कर पाएंगे।
  • इंडियन आर्मी को सैलरी भी बहुत अच्छी खासी मिलती है, एक आर्मी भारतीय जवान अपने परिवार की हर इच्छा पूरी कर पाएंगे।
  • एक आर्मी ऑफिसर देश और देशवासियों की रक्षा करता है इसके बदले में फौजी और उसके परिवार को समाज में एक उच्च स्थान मिलता है।
  • भारतीय सैनिकों को भारत के वीर सिपाही कहे जाते हैं।

इंडियन आर्मी के लिए कौन-कौन से काम होते हैं?

इंडियन आर्मी में जाने से युवा कैंडिडेट को काफी सारी कार्यभार सौंपा जाता है जिनमें से कुछ जिम्मेवारी निचे इस प्रकार से दर्शाया गया है:–

  • किसी देश या उसके नागरिकों या फिर किसी शासन व्यवस्था और उससे संबंधित लोगों के हितों व उनकी रक्षा करना उनका मुख्य कार्य है।
  • यह हमें पूर्ण रुप से स्वतंत्र जीने की आजादी देते हैं।
  • इनका सबसे मुख्य कार्य अपने देश की रक्षा करना होता है।
  • इंडियन आर्मी ऑफिसर का काम देश व नागरिकों की रक्षा उनके शत्रुओं पर प्रहार करना और शत्रुओं के पहाड़ को खदेड़ देना होता है।
  • व्यापारिक हित और कंपनियों को लाभ कराने
  • सामाजिक रीतियों में भाग लेने और विशेष स्थानों पर पहरा देने के लिए भी रखा जाता है।
  • कहीं कहीं जगह में ऑफिसर को राजनीतिक विचारधाराओं को बढ़ावा देना।
  • आपातकालीन बच – बचाव करना।
  • इमारतों व सड़कों का निर्माण करना

FAQ’S : आर्मी में जाने के लिए कितने परसेंट चाहिए | Army Me Jane Ke Liye Kitne Percentage Chahiye

प्रश्न:- इंडियन आर्मी में जाने के लिए कितने परसेंट चाहिए?

उत्तर:- इंडियन आर्मी के लिए 10वीं की कक्षा में 45 प्रतिशत अंक तथा 12वीं कक्षा में 60 परसेंटेज अंक के साथ मान्यता प्राप्त करना होता है तभी जाकर के कैंडिडेट इंडियन आर्मी के लिए योग्य होते हैं।

प्रश्न:- इंडियन आर्मी में जाने के लिए कितने अंक चाहिए?

उत्तर:- इंडियन आर्मी में जाने के लिए एक कैंडिडेट के द्वारा दसवीं कक्षा में प्रत्येक सब्जेक्ट में 33 अंक लाना होता है कुल 500 अंक में से कम से कम 165 अंक लाना अनिवार्य होता है यानी कि 45 परसेंटेज चाहिए तथा 12वीं कक्षा में एक कैंडिडेट को 60% यानी कि कुल 500 में से न्यूनतम 300 अंक लाना अनिवार्य होता है।

प्रश्न:- भारतीय सेना कितने प्रकार के होते हैं?

उत्तर:- भारतीय सेना तीन प्रकार के होते हैं
भारतीय जल सेना (Indian Navy)
भारतीय थल सेना (Indian Army)
भारतीय वायु सेना (Indian Air force)
जिसे भारत का सबसे बड़ा ताकत माना जाता है तथा भारत देश कि सुरक्षा के रूप में कार्य करता है।

आर्मी में जाने के लिए कितने परसेंट चाहिए | Army Me Jane Ke Liye Kitne Percentage Chahiye

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *