जीएनएम में कितने सब्जेक्ट होते हैं | GNM Me Kitne Subject Hote Hai

जीएनएम में कितने सब्जेक्ट होते हैं | GNM Me Kitne Subject Hote Hai: जीएनएम डॉक्टरी क्षेत्र का एक नर्सिंग कोर्स है इस कोर्स के माध्यम से महिलाओं को नर्स की ट्रेनिंग कराई जाती है साथ ही साथ मेडिकल उपचार के लिए भी सिखाया जाता है इसके अलावा भी महिलाओं को कई सारे मेडिकल क्षेत्र में जॉब के बारे में बताया जाता है।

जीएनएम में कितने सब्जेक्ट होते हैं | GNM Me Kitne Subject Hote Hai
जीएनएम में कितने सब्जेक्ट होते हैं | GNM Me Kitne Subject Hote Hai

जिसकी हासिल करने के बाद महिलाएं रोगियों की सेवा जैसे इंजेक्शन देना, दवाई देना तथा देखभाल आदि के कार्य कर सकते हैं। ऐसे में काफी सारे विद्यार्थी होते हैं जो मेडिकल के क्षेत्र में एक अच्छे जॉब करना चाहते हैं तो वैसे विद्यार्थीयों के लिए जीएनएम कोर्स परफेक्ट माना जाता है।

जीएनएम कोर्स एक पॉपुलर कोर्स है जो कि सस्ता कोर्स में से एक है जिसमें मान्यता प्राप्त करने के पश्चात कोई भी उम्मीदवार नर्स बनकर कहीं भी आसानी से जॉब पा सकते हैं ऐसे में अक्सर उम्मीदवारों के मन में ऐसा सवाल आता है की GNM में कितने सब्जेक्ट होते हैं?

इस आर्टिकल को अंत तक पढें ताकि आपको जीएनएम से संबंधित सवालों का जवाब विस्तारपूर्वक सरल भाषा में प्राप्त हो सके। 

Table of Contents

जीएनएम में कितने सब्जेक्ट होते हैं (gnm me kitne subject hote hai)

जीएनएम 3 वर्ष का कोर्स होता है, जहं प्रथम वर्ष में 5 सब्जेक्ट तथा द्वितीय वर्ष में 5 सब्जेक्ट एवं तृतीय वर्ष में 2 Part होते हैं जहां Part -1 में 3 सब्जेक्ट होते हैं और Part – 2 में 4 सब्जेक्ट होते हैं।

जीएनएम में कुल 16 सब्जेक्ट हैं जो कि नीचे निम्नलिखित प्रकार से है:– 

  • First Aid 
  • Civics 
  • English 
  • Nutrition
  • Bio Sciences 
  • Microbiology 
  • Psychology 
  • Applied science 
  • Computer Education 
  • Nursing Foundation 
  • Community Nursing
  • Environmental Sanitation 
  • Health Education and Communication Skills 
  • Anatomy and physiology 
  • Basics of Nursing  
  • Co-curricular Activities 

जीएनएम 1st Year में कितने Subject होते हैं?

जीएनएम के प्रथम वर्ष में कुल 5 सब्जेक्ट होते हैं किसी अलग-अलग कॉलेजों में कोई एक या दो सब्जेक्ट  अलग-अलग होते हैं इसके आलावा बाकी सब्जेक्ट वही होते हैं जो इस प्रकार है:–

  • Community Health Nursing
  • Nursing Foundations
  • Bio Science
  • Computer Education
  • Behavioral Sciences

जीएनएम 2nd Year में कौन-कौन से Subject होते हैं?

जीएनएम सेकंड ईयर में 5 सब्जेक्ट का अध्ययन करना होता है जो कि नीचे निम्नलिखित प्रकार से है- 

  • Medical-Surgical Nursing-I
  • Medical-Surgical Nursing -II
  • Mental Health Nursing
  • Child Health Nursing
  • Co-curricular

जीएनएम 3rd Year में कौन-कौन से Subject होते हैं?

जीएनएम थर्ड ईयर में अगर देखा जाए तो यह 2 भागों में विभाजित किए गए हैं जिसमें Part -1 में 3 सब्जेक्ट तथा Part – 2 में 4 सब्जेक्ट का अध्ययन करना होता है।

जीएनएम 3rd Year में Part -1 में कौन-कौन से सब्जेक्ट होते हैं?

जीएनएम थर्ड ईयर के पार्ट वन में 3 सब्जेक्ट होते हैं जो की इस प्रकार से है- 

  • Midwifery & Gynaecological Nursing
  • Co-curricular
  • Community Health Nursing-II

जीएनएम 3rd Year में Part – 2 में कौन-कौन से सब्जेक्ट होते हैं?

जीएनएम थर्ड ईयर के पार्ट – 2 में 4 सब्जेक्ट होते हैं जो की इस प्रकार से है- 

  • Nursing Administration & Ward Management
  • Introduction to Research and statistics
  • Nursing Education
  • Professional Trends & Adjustments

जीएनएम कोर्स क्या है (GNM Course Kya Hai)

जीएनएम कोर्स 3 वर्ष का एक डिप्लोमा मेडिकल कोर्स है मरीजों की सेवा किए जाने वाले को नर्सिंग कह सकते हैं जहं काफी सारे नर्स होते हैं जो की शिशु के पालन पोषण का ख्याल रखती है साथी ही रोगियों का देखभाल करता है।

जीएनएम का फुल फॉर्म जनरल नर्सिंग एंड मिडवाइफरी होता है जिसके 3 साल की कॉलेज स्टडी तथा 6 साल की इंटर्नशिप करनी होती है मेडिकल क्षेत्र में करियर बनाने वाले विद्यार्थियों के लिए यह बहुत ही लाभदायक सिद्ध होंगे।

GNM Course में नर्स की भूमिका घायल मरीजों तथा बिमार मरीजों कि निभाने में होती है साथ ही कदम कदम पर डॉक्टर की मदद करना आदि काफी सारे कार्य होते जो जो एक नर्स को करना होता है। जीएनएम कोर्स में दाखिला के लिए यूनिवर्सिटीज लेवल या स्टेट लेवल में आयोजित वैकेंसी में कंपटीशन एग्जाम की तैयारी भी कर सकते हैं।

MUST READS:»

जीएनएम नर्स के कार्य (GNM Nurse Work)

जीएनएम कोर्स में नर्स की भूमिका काफी सारे होते हैं जिनमें से कुछ नीचे इस प्रकार से है:–

  • मरीजो को दी गई दवाएं उनके एडमिट होने से संबंधित सभी दस्तावेज बनाकर रखना होता है।
  • नर्स का कार्य किसी भी हॉस्पिटल में मरीजों की दीखभाल करना और उनकी सेवा करना होता है।
  • नर्स का प्रमुख कार्य मरीज की देखभाल करना और उनकी सेवा के लिए तैयार रहना।
  • दवाएं देने के साथ ही उनके खानपान से संबंधित जानकारी भी मरीजों को देना होता है।
  • रोगियों के इलाज के दौरान डॉक्टर के असिस्टेंट की तरह काम करना होता है।
  • मरीजों की स्वास्थ्य कंडीशन पर नजर रखना होता है।
  • मरीजो को समय पर उनकी दवाएं देना, विभिन्न उनके चेकअप करना, जैसेकि टेम्परेचर चेक करना, ब्लड शुगर की जांच करना, ब्लड प्रेशर चेक करना जैसे कार्य करने होते है।

जीएनएम की पुस्तकें और लेखपाल (GNM Books and Writer)

जीएनएम की पुस्तकें नीचे निम्नलिखित प्रकार से है:–

  • Physiology
  • Microbiology
  • Sociology
  • Psychology
  • Anatomy 
  • Gnm midwifery case book
  • Community health nursing 
  • Medical Surgical Nursing 
  • Child Health Nursing

जीएनएम की पुस्तकें और लिखा पाठ्यक्रम विवरण

S.N.GNM Books Writer 
1.gnm midwifery case bookMrs. P. Lavanya
2.community health nursingS. Bhagya Lakshmi
3.Medical Surgical Nursingप्रधानमंत्री प्रतिभा
4.microbiologyKarn Muni Shekhar
5.physiologyKarn Muni Shekhar
6.Child Health NursingM.Goswami
7.SociologyK. Madhawi
8.PsychologyK. Madhawi
9.AnatomyKarn Muni Shekhar

भारतीय जीएनएम कॉलेजों की सूची (GNM College List In Hindi)

भारतीय जीएनएम कॉलेज काफी सारे होते हैं जिनमें से कुछ भारतीय जीएनएम कॉलेज इस प्रकार से है:–

  • SRM इंस्टिट्यूट ऑफ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी चेन्नई में स्थित है। 
  • गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज और अस्पताल जो किचंडीगढ़ में स्थित है।
  • क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज (CMC) वेल्लोर में स्थित है।
  • सेंट जॉन्स मेडिकल कॉलेज बेंगलुरु में स्थित है।
  • KIIT भुवनेश्वर में स्थित हैव।

जीएनएम कॉलेज में दाखिला होने के लिए उम्मीदवारों को  12वीं कक्षा में न्यूनतम 60% अंक लाना अनिवार्य होता है अन्य जीएनएम कॉलेज में दाखिला होने के लिए 50% अंक लाना होता है यानी कि अलग-अलग कॉलेजों व यूनिवर्सिटी में दाखिला होने के लिए अलग-अलग अंक निर्धारित होते हैं।

आवेदन प्रक्रिया

भारतीय जीएनएम कोर्स या विदेश जीएनएम कोर्स में दाखिला के लिए निम्नलिखित प्रक्रिया होता है जो कि इस प्रकार है-

  • भारतीय कॉलेज या विदेशों के कॉलेज में दाखिला होने के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन या ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होता है।
  • जिस देश में आप जीएनएम कोर्स करना चाहते हैं उस देश की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर के ऑनलाइन कराना होता है।
  • पिछले सालों की नौकरी की जानकारी भरना होता है।
  • ड्राफ्ट रजिस्ट्रेशन फीस कि भुगतान करना होता है
  • शैक्षणिक योग्यता कि डिटेल भरना होता है। 
  • बनाया गया यूजर आईडी और पासवर्ड से लॉगिन करके अपना सब्जेक्ट को चयन करना होता है।
  • किसी किसी कॉलेज या यूनिवर्सिटी में सिलेक्शन होने के बाद इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है।
  • शैक्षणिक योग्यता के साथ-साथ एंट्रेंस एग्जाम LOR, IELTS, SOP, के डिटेल भी भरना होता है।
  • अंतिम में आवेदन पत्र जमा करना होता है।

भारतीय कॉलेज या विदेशों की कॉलेज में जीएनएम के कोर्स में दाखिला होने के लिए ऊपर दिए गए निम्नलिखित प्रक्रिया का पालन करना होता है जीएनएम कोर्स में दाखिला होने के लिए इसकी प्रक्रिया के बारे में जानकारी होना अति आवश्यक होता है।

जीएनएम प्रवेश परीक्षा (Gnm Entrance Exam)

जीएनएम में दाखिल होने के लिए प्रवेश परीक्षा देना होता हैं जो निम्नलिखित है:–

  • JIPMER Nursing Entrance Exam
  • AIIMS Nursing Entrance Exam
  • RUHS Nursing Entrance Exam
  • BHU Nursing Entrance Exam
  • MGM CET Nursing
  • IGNOU OpenNet
  • PGIMER Nursing

कॉलेज व यूनिवर्सिटी में आयोजित प्रवेश परीक्षा में प्राप्त अंक के अनुसार ही उम्मीदवार का चयन किया जाता है अर्थात आयोजित प्रवेश परीक्षा में अच्छे अंक से मान्यता प्राप्त करना अति आवश्यक होता है।

जीएनएम कोर्स करने के बाद नौकरियां (GNM Ke Baad Job)

जीएनएम कोर्स करने के बाद उम्मीदवार के पास काफी सारी जॉब ऑप्शन खुल जाते हैं साथ ही यदि उम्मीदवार चाहे तो वह अपने आगे की पढ़ाई हुई कर सकते हैं जीएनएम कोर्स के बाद कंपटीशन जॉब निम्नलिखित होते हैं जिनमें से कुछ इस प्रकार से हैं:–

  • फोरेंसिक नर्स
  • मिडवाइफ नर्स
  • क्लिनिकल नर्स
  • चाइल्ड नर्स
  • नर्सिंग टीचर
  • सोशल वर्कर
  • हैल्थ प्रमोशन ऑफिसर
  • लीगल नर्सिंग कंसल्टेंट
  • इमरजेंसी केयर नर्स
  • एम्प्लॉयमेंट एरियाज फॉर जनरल नर्सिंग एंड मिडवाइफरी
  • मेंटल हैल्थ केयर गिवर

जीएनएम कोर्स को पूरा करने के बाद उम्मीदवार काफी क्षेत्र में जॉब कर सकते हैं जैसे- कंपनियां, प्राइवेट हॉस्पिटल, सरकारी हॉस्पिटल, नर्सिंग होम, नर्स शिक्षण, प्राथमिक चिकित्सा क्लीनिक, औषधालय आदि।

जीएनएम कोर्स कि सैलेरी कितनी होती है?

GNM Ki Salary Kitni Hoti Hai: भारतीय जीएनएम कोर्स की सैलरी अलग-अलग क्षेत्र में अलग-अलग निर्धारित होती है लेकिन आपको बता दें कि अनुपातिक तौर पर जीएनएम कोर्स की फीस महिने कि लगभग 15,000 से लेकर के लगभग 50,000 तक की हो सकती है।

जीएनएम कोर्स में जैसे-जैसे उम्मीदवार अनुभव बढ़ता जाता है ठीक उसी प्रकार उम्मीदवार की सैलरी में भी वृद्धि होती है।

जीएनएम कोर्स की फीस कितनी होती है?

GNM Course Ki Fees Kitni Hoti Hai: भारत के गवर्नमेंट कॉलेज में जीएनएम कोर्स कि फीस सालाना लगभग 30,000 से लेकर के लगभग 45,000 तक की हो सकती है वहीं अगर प्राइवेट कॉलेज कि बात करें तो साल के लगभग 1 लाख से लेकर के 3.90 लाख तक कि हो सकती है।

अलग-अलग भारतीय कॉलेज में जीएनएम कोर्स की फीस अलग-अलग निर्धारित होती हैं वास्तविक देना और किसके बारे में जाने के लिए कॉलेज की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर के चेक करें।

विदेशों में जीएनएम कोर्स यूनिवर्सिटी 

भारत से बाहर विदेशों में जीएनएम कोर्स करने के लिए काफी सारे कॉलेज व यूनिवर्सिटी होते हैं जिनमें से कुछ यूनिवर्सिटी इस प्रकार से है-

  • नॉर्थर्न कैरोलिना विश्वविद्यालय
  • येल यूनिवर्सिटी
  • जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी
  • यूनिवर्सिटी ऑफ पेनसिलवेनिया
  • यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी सिडनी
  • किंग्स कॉलेज लंदन
  • मैनचेस्टर यूनिवर्सिट
  • टोरंटो विश्वविद्यालय
  • वाशिंगटन यूनिवर्सिटी
  • साउथम्पटन यूनिवर्सिटी

विदेशों में जीएनएम कोर्स की फीस कितनी होती है?

यूनिवर्सिटीट्यूशन कोर्स फीसइंडियन रुपीस 
नॉर्थर्न कैरोलिना विश्वविद्यालयUSD37,333INR 28 लाख 
जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटीUSD 61,333INR 46 लाख
यूनिवर्सिटी ऑफ पेनसिलवेनियाUSD 54,666INR 41 लाख
येल यूनिवर्सिटीUSD 56,000INR 42 लाख
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी सिडनीAUD 36,363INR 20 लाख
किंग्स कॉलेज लंदनGBP 25,000INR 25 लाख
मैनचेस्टर यूनिवर्सिटीGBP 24,000INR 24 लाख
टोरंटो विश्वविद्यालयCAD 51,666INR 31 लाख
वाशिंगटन यूनिवर्सिटीUSD 36,000INR 27 लाख
साउथम्पटन यूनिवर्सिटीGBP 21,000INR 21 लाख

जीएनएम के लिए योग्यता (GNM Ke Liye Qualification)

जीएनएम कोर्स के लिए पात्रता निचे इस प्रकार दीये गये हैं:–

  • जीएनएम कोर्स के लिए उम्मीदवार को 12वीं कक्षा में न्यूनतम 50% अंक के साथ मान्यता प्राप्त करना होता है जीएनएम में प्रवेश के लिए अलग-अलग कॉलेजों में अलग-अलग दाखिला अंक निर्धारित कि गयी है। 
  • एनम कोर्स के लिए उम्मीदवारों को भारी कक्षा में पास होना होता है। 
  • 12वीं कक्षा में मुख्य विषय जैसे फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी ऐड होना चाहिए। 
  • जीएनएम कोर्स के लिए कॉलेजों के द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षा में मान्यता प्राप्त करना अति आवश्यक होता है।

जो विद्यार्थी GNM Course करने के पश्चात मेडिकल के क्षेत्र में एक अच्छी केरियर बनाना चाहते हैं तो उन विद्यार्थी के लिए एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया को समझना अति आवश्यक माना जाता है क्योंकि इस कोर्स के लिए पात्र वही विद्यार्थी हो सकते हैं जो विधार्थी जिएनएम कोर्स की पात्रता में मान्य है।

FAQ’S:–

Q:- जीएनएम में कितने सब्जेक्ट होते हैं?

Ans:- भारतीय जीएनएम कोर्स में कुल 16 से 17 सब्जेक्ट होते हैं जैसे- Environmental Sanitation (पर्यावरण स्वच्छता), Health Education and Communication Skills (स्वास्थ्य शिक्षा और संचार कौशल), Anatomy and physiology (शरीर रचना विज्ञान और शरीर विज्ञान), Basics of Nursing  (नर्सिंग की मूल बातें) आदि।

Q:- जीएनएम कोर्स की फीस कितनी होती है?

Ans:- भारत में जीएनएम कोर्स की फीस सरकारी कॉलेजों में लगभग 30,000-45,000 सालाना का होता है। प्राइवेट कॉलेजों में जीएनएम कोर्स की फीस लगभग 1-3.90 लाख साल का होता है तथा अलग-अलग कॉलेज व यूनिवर्सिटी में अलग-अलग फीस निर्धारित होती है। 

Q:- जीएनएम कोर्स की सैलरी कितनी होती है?

Ans:- जीएनएम कोर्स की फीस महिने कि शुरुआती में लगभग 15,000 से लेकर के लगभग 50,000 तक की हो सकती है साथ ही जैसे-जैसे उम्मीदवार की एक्सपीरियंस बढता है ठीक वैसे वैसे उम्मीदवार की सैलरी भी बढ़ता है।

जीएनएम में कितने सब्जेक्ट होते हैं | GNM Me Kitne Subject Hote Hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *