जीएनएम में कौन-कौन से सब्जेक्ट होते हैं? | Gnm me kitne subject hote hai

जीएनएम में कितने सब्जेक्ट होते हैं | Gnm me kitne subject hote hai, जीएनएम में कौन-कौन से सब्जेक्ट होते हैं, gnm mein kaun kaun se subjects hote hai, जीएनएम फर्स्ट, सेकंड, थर्ड ईयर में कौन कौन से सब्जेक्ट होते हैं?

साथियों क्या आप 12वीं पास कर चुके हैं। और 12वीं पास करने के बाद आप एक नर्सिंग की क्षेत्र में जीएनएम कि कोर्स को करने का सोच रहे हैं। 

लेकिन फिर भी आपके मन में सवाल चलता है। कि क्या 12वीं के बाद जीएनएम कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं? तो मैं आपको बता दूं। जी हाँ 12वीं के बाद आप जीएनएम कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं। 

लेकिन जीएनएम कोर्स में एडमिशन लेने से पहले आपको यह जानना बहुत जरूरी होता है। जीएनएम कोर्स को करने के लिए कितने सब्जेक्ट होते हैं और कौन-कौन से सब्जेक्ट होते हैं।

जीएनएम में कौन-कौन से सब्जेक्ट होते हैं? (Gnm me kitne subject hote hai)
जीएनएम में कौन-कौन से सब्जेक्ट होते हैं? (Gnm me kitne subject hote hai)

घबराइए नहीं मैं आपको इस आर्टिकल में इसी के बारे में सरल भाषा से और विस्तार पूर्वक से बताने वाले हैं। आप इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े। 

ताकि आपको भी GNM कोर्स में कितने Subject होते हैं। और कौन-कौन से सब्जेक्ट होते हैं। इसके बारे में विस्तार पूर्वक से जानकारी मिल सके। चलिए अब हम चलते हैं कि

»1.GNM में कितने विषय होते हैं? (Gnm me kitne subject hote hai)
»2.GNM में कौन-कौन सब्जेक्ट होते हैं?
»3.जीएनएम फर्स्ट ईयर में कौन कौन से सब्जेक्ट होते हैं?
»4.जीएनएम कोर्स के लिए योग्यता कितनी होनी चाहिए?
»5.जीएनएम के लिए आयु सीमा कितनी होनी चाहिए?

जीएनएम में कौन-कौन से सब्जेक्ट होते हैं? (GNM Subject List in Hindi)

जैसे कि आपने ऊपर में पढ़ा कि जीएनएम कोर्स 3 साल और 6 महीने की Internship होती है। तो चलिए में आपको बता दूँ। कि यह तीनो सालों में अलग अलग सब्जेक्ट होते हैं। 

आज मैं आपको बता दूं की यह कोर्स पीड़ित महिलाओं और पीड़ित मरीजों के देख भाल करने में सहायक होती है। और साथ ही गर्भवती महिलाओं की सहायता भी कर सकते हैं। 

इस कोर्स में महिलाएं 80% और पुरुष 20% ही भाग ले सकते हैं। और इस क्षेत्र अंग्रेजी मजबूती अति आवश्यक होता है। 

जीएनएम फर्स्ट ईयर में कितने सब्जेक्ट होते हैं? (Gnm 1st year subject list in hindi)

  • फर्स्ट ऐड
  • अंग्रेज़ी फर्स्ट ऐड
  • अप्लाइड साइंस
  • एनाटॉमी एंड फिज़िओलॉजी
  • नर्सिंग फाउंडेशन
  • को-करिक्यूलर एक्टिविटीज़
  • माइक्रोबायोलॉजी
  • कंप्यूटर एजुकेशन
  • बायो साइंसेजकम्युनिटी नर्सिंग अप्लाइड साइंस
  • हैल्थ एजुकेशन एंड कम्युनिकेशन स्किल्स
  • साइकोलॉजी
  • न्यूट्रिशन
  • बेसिक्स ऑफ़ नर्सिंग
  • एनवायर्नमेंटल क्लीनलीनेस
  • सोशियोलॉजी

जीएनएम सेकंड ईयर में कितने सब्जेक्ट होते हैं? (Gnm 2nd year subject list in hindi)

  • चाइल्ड हैल्थ नर्सिंग
  • मेडिकल-सर्जिकल नर्सिंग
  • को-करिक्यूलर एक्टिविटीज़
  • मेन्टल हैल्थ एंड साइकियाट्रिक नर्सिंग

जीएनएम थर्ड ईयर में कितने सब्जेक्ट होते हैं? (Gnm 3rd year subject list in hindi)

  • नर्सिंग एजुकेशन
  • कम्युनिटी हैल्थ नर्सिंग
  • को-करिक्यूलर एक्टिविटीज़
  • बिज़नेस ट्रेंड्स एंड अड़जस्टमेंट्स
  • इंट्रोडक्शन टू रिसर्च एंड स्टेटिस्टिक्स
  • मिडवाइफरी और गायनोकोलॉजिकल नर्सिंग
  • क्लीनिकल एरियाज़ इन जनरल नर्सिंग एंड मिडवाइफरी

जीएनएम कोर्स के लिए योग्यता (GNM Qualification In Hindi)

सरकार की अन्य जॉब अलर्ट की तरह इसमें भी योग्यता निर्धारित किया हुआ है। जिसको प्राप्त करने के बाद आप एक नर्स की पद को हासिल कर सकते हैं। वह इस प्रकार से है।

  • इस कोर्स को हासिल करने के लिए आपको 12वीं पीसीएम(PCB) से मान्यता प्राप्त करनी होती है।इसमें कम से कम 40% अंक लाना बहुत ही nuccesury होता है।
  • कम से कम 40% होना जरूरी होता है। 
  • GNM कोर्स में एडमिशन लेने से पहले आपको INC के माध्यम से मान्यता प्राप्त होनी चाहिए। चाहे आप भारत के किसी भी संस्था से क्यों न करे। यह नर्सों में आवश्यक गुणों को स्वच्छ बनाये रखने में मदद करते हैं।  
  • डिप्लोमा अंडर ग्रैजुएट होना चाहिए।
  • अंग्रेजी विषय को लेकर मान्यता प्राप्त करनी होती है। 
  • CBSE बोर्ड और INC स्ट्रीम से स्वास्थ्य विभाग द्वारा मान्यता प्राप्त करनी होती है। 
  • विदेशों में PTE, IELTS और TOEFL जैसे टेस्ट अंग्रेज़ी भाषा में देना होता है।
  • ANM में भी मान्यता जरूरी होता है। 

इस कोर्स को पूरा करने के लिए आपके मन में भी सवाल चलता होगा।  की इस कोर्स को करने के लिए आयु सीमा कितनी होनी चाहिए। तो चलिए अब हम चाहते हैं।

जीएनएम की आयु सीमा कितनी होती हैं? (GNM Age Limit In Hindi)

इस कोर्स में आयु सीमा निर्धारित होती है। जो कि न्यूनतम आयु 17 वर्ष और अधिकतम आयु 35 वर्ष के बीच होनी चाहिए।

जीएनएम की सैलरी कितनी मिलती हैं? (Gnm ki salary kitni hoti hai)

Gnm कोर्स की सैलरी शुरुआती वेतन लगभग 8,000 से 12,000 तक होती है। जीएनएम की सैलरी निर्भर करता है विभागों के ऊपर सरकारी या प्राइवेट विभागों में जॉब करते हैं। 

यदि प्राइवेट सेक्टर में जॉब करते हैं तो इसकी सैलरी लगभग 8,000 से लेकर 12,000 से 15,000 तक भी मिल सकते हैं, जबकि गवर्नमेंट सेक्टर में जॉब करने पर इसकी शुरुआती तौर पर सैलरी लगभग 10,000 से लेकर 25,000 से 30,000 तक सैलरी मिल सकती हैं।

लेकिन अभ्यास और शैक्षणिक योग्यता के तौर पर आप इनकम प्रतिवर्ष (INR 3.2-7.8 लाख) तक का अतिरिक्त कमाई कर सकते हैं। आवटी इनकम आप नियुक्त संघ के आधार और अस्पताल के आधार पर कर सकते हैं।

अन्य देशों में जैसे कि यूके में नर्स की एक रजिस्टर की औसत सैलरी लगभग 35 से 36000(INR 35 – 36 लाख) तक की होती है। जबकि अमेरिका में यूएसडी लगभग 70 से 72 आवंटी इनकम(INR 52 50 54 लाख) तक की कर सकते है।

GNM कोर्स करने के फायदे (GNM Karne Ke Fayde)

GNM से लाभ अगर आज के समय में देखा जाय तो जॉब अलर्ट के क्षेत्र मे स्वास्थ्य क्षेत्र की मांग कभी भी खत्म नहीं होने वाला है। य़ह कोर्स उन लोगों के लिए लाभदायक सिद्ध होगा जिनको लगता है।

 कि उसके पास इस कोर्स को करने के लिए प्रयाप्त पैसा नहीं लेकिन फिर भी एक हॉस्पिटल में जॉब करने की इच्छा रखते हैं। तो मैं आपको बता दूँ। की इस कोर्स को करने के बाद आपको काफी सारे फायदे होते हैं। जो की इस प्रकार से है 

  • इस कोर्स को करने के बाद आप एक सरकारी हॉस्पिटल में जॉब कर सकते हैं। 
  • आपना नजदीकी सादर हॉस्पिटल में जॉब कर सकते हैं। 
  • मेडिकल हॉस्पिटल में जॉब कर सकते हैं 
  • प्राइवेट अस्पतालों में आसानी से जॉब कर सकते हैं।
  • नर्सिंग होम में जॉब कर सकते हैं।
  • नर्स को डॉक्टर का सहायक माना जाता है। जब भी मरीज हॉस्पिटल जाते हैं। तो सबसे पहले नर्स के माध्यम से मरीजों का नाड़ी,ब्लड टेमपरेचर, वैट चेक कराया जाता है। 

FAQ– जीएनएम में कौन-कौन से सब्जेक्ट होते हैं?

Q. 1 कौन सा विषय से पढ़ाई करने के बाद अपना खुद का क्लीनिक खोल सकते हैं?

Ans- D Pharma, B Pharma पढ़ाई करने के बाद आप अपना खुद का क्लीनिक कर सकते हैं।

Q. 2 क्लीनिक खोलने के लिए कितनी पढ़ाई जरूरी होती है?

Ans- स्नातक डिग्री में बीएससी लेकर के आप आगे की और भी डिग्री हासिल करने के बाद आप एक खुद का क्लीनिक खोल सकते हैं।

Q. 3 जीएनएम कोर्स कितने साल का होता हैं?

Ans- जीएनएम 3 साल का कोर्स होता है, जबकि तीनों सालों में अलग-अलग सब्जेक्ट होते हैं।

ALSO READS:»

निष्कर्ष:- जीएनएम में कौन-कौन से सब्जेक्ट होते हैं? (Gnm me kitne subject hote hai)

साथियों आज हम आपको इस आर्टिकल में जीएनएम में कौन-कौन से सब्जेक्ट होते हैं? (Gnm me kitne subject hote hai) इसके बारे में सरल भाषा में विस्तार पूर्वक से बताया है। साथी फर्स्ट ईयर में कितने सब्जेक्ट होते हैं। सेकंड ईयर में कितने सब्जेक्ट होते हैं।

 तथा थर्ड ईयर में कितने सब्जेक्ट होते हैं। इसकी सैलरी कितनी होती है। आयु सीमा कितनी होनी चाहिए और इसकी योग्यता कितनी होनी चाहिए। तो यह सब के बारे में मैंने आपको विस्तारपूर्वक से समझाने का कोशिश किया है।

यदि आपने इस आर्टिकल को अंत तक पड़ा है। तो हमें उम्मीद है। कि आपको इस आर्टिकल के माध्यम से पूर्ण रूप से जानकारी मिल गई होगी।

जीएनएम में कौन-कौन से सब्जेक्ट होते हैं? (Gnm me kitne subject hote hai)

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *