नीट में सिलेक्शन के लिए कितने मार्क्स चाहिए | NEET Me Passing Marks Kitne Chahiye

नीट में सिलेक्शन के लिए कितने मार्क्स चाहिए, NEET Me Passing Marks Kitne Chahiye,  Neet Me Selection Ke Liye Kitne Marks Chahiye, नीट में सिलेक्शन के लिए नंबर

साथियों अगर आज के समय में देखा जाए तो सबसे ज्यादा जॉब्स ऑप्शन देने वाली डॉक्टर की क्षेत्रों में पाया जाता है। 

डॉक्टर के क्षेत्र में एमबीबीएस कोर्स सबसे ज्यादा लोकप्रिय होता है। एमबीबीएस डॉक्टर की सबसे ज्यादा चुने जाने वाले क्षेत्र होता हैं। 

नीट में सिलेक्शन के लिए कितने मार्क्स चाहिए | NEET Me Passing Marks Kitne Chahiye
नीट में सिलेक्शन के लिए कितने मार्क्स चाहिए | NEET Me Passing Marks Kitne Chahiye

हर साल लाखों करोड़ों विद्यार्थियों का सपना होता है। डॉक्टर बनने का ऐसी में डॉक्टर बनने के लिए अलग-अलग मेडिकल यूनिवर्सिटी या मेडिकल कॉलेज से अलग-अलग कोर्स में दाखिला लेते हैं। 

एमबीबीएस के अलावा Bsc Nursing ,BDS ,MD, AIIMS और Post basic Nursing course आदि भी कई सारे डॉक्टर की कोर्स  होते हैं। जिसे हासिल करने के लिए विद्यार्थियों को नीट (NEET) की परीक्षा से होकर के गुजरना होता है। 

डॉक्टर के किसी भी डिग्री को हासिल करने के लिए नीट की परीक्षा में अच्छे अंक से पास होना अति आवश्यक माना जाता है। 

ऐसे में मेडिकल की क्षेत्र में जॉब ऑप्शन के लिए हर एक विद्यार्थियों के मन में अक्सर ऐसा सवाल आता है। और आना भी जरूरी होता है। कि आखिरकार नीट के एग्जाम में पास होने के लिए कितना नंबर चाहिए होता है?

नीट एग्जाम में सिलेक्शन होने के लिए कितना नंबर चाहिए? हमारे यह आर्टिका इसी पर निर्भर करती है। इसका मुख्य उद्देश्य नीट में सिलेक्शन के लिए कितने मार्क्स चाहिए (NEET Me Passing Marks Kitne Chahiye) होता है। 

तो चलिए अब हम आपको बताने वाले हैं कि NEET एग्जाम में सिलेक्शन के लिए कितना नंबर चाहिए? इस आर्टिकल में अंत तक बने रहीये। ताकि आपको भी इसके बारे में पूर्ण रूप से जानकारी हो सके।

नीट में सिलेक्शन के लिए कितने मार्क्स चाहिए (NEET Me Passing Marks Kitne Chahiye)

साथियों जैसा कि हम सभी को पता है। कि प्रवेश परीक्षा के माध्यम से ही हमे प्रोफेशनल कोर्स में दाखिला मिलती है। प्रवेश परीक्षा में हम जितने ही अच्छे अंक लाएंगे। उतने ही अच्छे कोर्स में हमारी दाखिला होती है। ऐसे में नीट में सिलेक्शन के लिए कितने मार्क्स चाहिए?

नीट में सिलेक्शन के लिए न्यूनतम 140 मार्क्स से लेकर के 720 मार्क्स लाने होते हैं। वहीं जबकि सरकारी कॉलेज में दाखिला होने के लिए हमें लगभग 600 मार्क्स लाने होते हैं। और एक अच्छे प्राइवेट कॉलेज में दाखिला होने के लिए लगभग 550 मार्क्स लाने होते है।  

हमें यह भी पता होना चाहिए कि नीट की परीक्षा एक प्रवेश परीक्षा होती है। जिसके माध्यम से हमें एक अच्छे मेडिकल कॉलेज में एडमिशन मिलती है। 

नीट की परीक्षा में विद्यार्थी जितने ही अच्छे अंक लातें है।  उतने ही अच्छे मेडिकल कॉलेज में दाखिला हो सकते हैं।

नीट क्या है (What is NEET Exam in hindi)

नीट क्या है? नीट एक प्रकार का एग्जाम है। जोकि मेडिकल के क्षेत्र इसकी बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका होती है। NTA के माध्यम से NEET परीक्षा का आयोजन हर साल ऑफलाइन मोड में किया जाता है।

इस परीक्षा में भाग लेने वाले उम्मीदवारों का नियम और शर्तें इस प्रकार हैं

  • अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति / अन्य पिछड़ा वर्ग श्रेणी से संबंधित उम्मीदवारों को थोड़ा लाभ दिया गया है। उनके लिए एचएससी परीक्षा में भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान/जैव प्रौद्योगिकी में प्राप्त आवश्यक न्यूनतम अंक की सीमा 40% रखी गई है।
  • उम्मीदवार को भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान / जैव प्रौद्योगिकी और अंग्रेजी जैसे विषयों के साथ कम से कम कुल 50% अंक के साथ 12वीं उत्तीर्ण होना चाहिए।
  • हर विषय में भी अलग-अलग 50% अंक होने चाहिए।
  • उम्मीदवार को भारत का नागरिक होना चाहिए।
  •  अभ्यर्थी की आयु कम से कम 17 वर्ष होनी चाहिए।
  • क्योंकि ऊपर दिया हुआ आयु सीमा पर निर्णय सर्वोच्च न्यायालय में लंबित है। और सभी उम्मीदवारों को इस परीक्षा में बैठने की अनुमति होती है।

नीट का फुल फॉर्म क्या होता है(Neet full form)

नीट का फुल फॉर्म National Eligibility Cum Entrance Test होता है। जिसका हिंदी में अर्थ राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा होता है।

नीट में सिलेक्शन के लिए कितने परसेंटेज चाहिए (Neet Me Selection Ke Liye Kitne  percentage Chahiye)

नीट में सिलेक्शन के लिए कितने परसेंटेज चाहिए? नीट एग्जाम में सिलेक्शन के लिए अलग-अलग वर्गों के लिए अलग-अलग cut off परसेंटेज निर्धारित होती है। जैसे कि सामान्य वर्ग के लिए कट ऑफ परसेंटेज 50% होते हैं।

आरक्षित उम्मीदवार केले 40% कट ऑफ मार्क्स होते हैं जबकि PH उम्मीदवारों के लिए 45% कट ऑफ मार्क्स होते हैं। 

नीट की परीक्षा होने के बाद परिणाम नीट के वेबसाइट में दर्शाया जाता है। ऊपर दिए गए कट ऑफ मार्क्स और परसेंटेज को इस टेबल के माध्यम से आप समझ सकते हैं।

S.NCategoryNEET Cut off marksNEET Cut off Percentage 
1.General PH116-10545%
2.OBC/ SC/ ST104-9340%
3.OBC/ SC/ ST116-9340%
4.UR/EWS 715-11750%

जैसे कि हमने पहले भी बताया है। कि नीट एग्जाम में हम जितने अच्छे अंक प्राप्त करते हैं। उतने ही अच्छे मेडिकल कॉलेज में हमारी दाखिला होती है।

नीट परीक्षा एक प्रवेश परीक्षा होती है। जिसके माध्यम से मेडिकल कॉलेज में एनिमेशन होती हैं। नीट में सिलेक्शन के लिए कितने परसेंटेज चाहिए? (Neet mein kitne percentage chahiye).

नीट में सिलेक्शन के लिए आप पर निर्भर करता है कि आप किस कैटेगरी में आते हैं। जैसे General, OBC,SC,ST आदि वैसे ही परसेंटेज आपको लाना होता है जैसे कि हमने टेबल में बताया है।

नीट कटऑफ मार्क्स क्या होता है (Neet Cut off marks kya hota hai)

साथियों अगर हम कट ऑफ मार्क्स के बारे में बात करें तो नीट पास करने के लिए कोई निर्धारित अंक लाना नहीं होता है। और ना ही नीट एग्जाम को पास करने के लिए कोई निर्धारित अंक होता है। यह एक कट ऑफ मार्क्स होता है।

कट ऑफ मार्क्स क्या होता है? कट ऑफ मार्क्स हर वर्ष अलग-अलग कैटेगरी यानी वर्गों के लिए अलग-अलग होती है। कट ऑफ मार्क्स का अर्थ होता है की कट ऑफ मार्क्स से अधिक मार्क्स लाना।

कट ऑफ मार्क्स हर साल अलग-अलग होते हैं। ऐसे ऐसे में उस वर्ष में अलग-अलग वर्गो जैसे सामान्य वर्ग के लिए अलग मार्क्स निर्धारित हो जाते हैं।  इसी प्रकार से ओबीसी(OBC),एससी(SC)और एसटी(ST) में भी अलग-अलग अंक निर्धारित हो जाते हैं। 

ऐसे में सामान्य वर्ग के विद्यार्थियों को नीट की परीक्षा में  पास करने के लिए कटऑफ से निर्धारित अंक से अधिक अंक लाना अनिवार्य होता है। ठीक उसी प्रकार से ओबीसी, एससी और एसटी कैटेगरी में भी यही प्रक्रिया होती है।

यानी कि नीट के एग्जाम पास करने के लिए कट ऑफ मार्क्स साल का साल पढ़ता घटाता रहता है।  ऐसे में विद्यार्थियों को नीट की परीक्षा पास करने के लिए कट ऑफ मार्क्स से ज्यादा मार्क्स लाना होता है। 

नीट एग्जाम में कट ऑफ मार्क्स (Neet exam Mein cut off marks) 

नीट एग्जाम को पास करने के लिए नीट कट ऑफ मार्क्स एक मिनिमम मार्क्स होता है। जैसा कि हमने आपको पहले भी बता चुके हैं।

यदि नीट के एग्जाम के लिए 2022 में 2021 की तुलना करें । तो 2021 में cut-off  50 %  जनरल वर्ग के उम्मीदवारों के लिए थे। 

वोही अगर देखा जाए तो OBC,SC और ST के लिए 40 परसेंटेज लाना होता था। और सामान्य वर्ग के लिए नीट एग्जाम में 45 परसेंटेज लाना होता था। 

नीट एग्जाम की कट ऑफ मार्क्स में 2021 की तुलना में 2022 में कोई उतार-चढ़ाव नहीं हुआ है। जितनी 2021 में नीट के एग्जाम में कट ऑफ मार्कस थे।  2022 में भी उतनी ही लाना होता है।

2022 नीट के एग्जाम में कट ऑफ मार्क्स उनके दिए हुए परीक्षा के माध्यम से होती है। यदि परीक्षा में कठिन प्रश्न पूछे जाते हैं तो नीट में कटऑफ मार्क्स थोड़ा कम हो सकता है।  लेकिन वही अगर सवाल सरल हो तो नीट में कटऑफ मार्क्स थोड़ा आधिक हो सकता है।

2021 और 2022 में नीट की परीक्षा में कट ऑफ में कोई अलग नहीं है। दोनों सालों में कट ऑफ मार्क्स उतनी ही है।

2020 में नीट एग्जाम में कटऑफ मार्क्स (Nit Cutoff Exam in 2020)

  • 2020 में नीट एग्जाम में अनारक्षित वर्ग के विद्यार्थियों के लिए नीट कटऑफ मार्क्स के लिए 720 – 147 लाना होता था। 
  • ओबीसी(OBC)वर्ग के विद्यार्थियों को 50 परसेंट अंक लाना होता था। यानी की विद्यार्थियों को 146 – 113 लाना होता था।
  • जबकि एससी( SC) के विद्यार्थियों को 50 परसेंट अंक लाना होता था। यानी की विद्यार्थियों को 146 – 113 अंक लाना निर्धारित होता था।
  • ST के विद्यार्थियों को 50 परसेंट अंक लाना होता था। यानी की उन्हें भी 146 – 113 अंक लाना निर्धारित होता था।

2020 की तुलना 2021 में नीट कि परीक्षा की कटऑफ मार्क्स सभी कैटेगरी से कुछ कम थे।

जैसे कि ST,SC और OBC के विद्यार्थियों के लिए नीट कट ऑफ मार्क्स 146 – 113 से घटकर 137 – 108 हो गया था। जबकि अनारक्षित वर्ग के लिए नीट कट ऑफ मार्क्स 720 – 147 से लेकर के 720 – 138 हो गया था।

साथियों यदि RU/EWS वर्ग के विद्यार्थियों के लिए नीट की परीक्षा में कट ऑफ मार्क्स कि बात किया जाए तो उसकी रेंज कुछ इस प्रकार से है 720 – 138 यानी कि इस बार के विद्यार्थियों को नेट कट ऑफ मार्क्स 720 और 138 के बीच अंक लाना होता है। क्या रेंज 2021 की है।

2022 में Cut-Off मार्क्स कितने थे (2022 Cut-Off Marks Kitne The)

नीट एग्जाम में पास होने के लिए अलग-अलग वर्गों के लिए अलग-अलग अंक लाने होते हैं  तभी जाकर के वह नीट की परीक्षा में पास हो पाते हैं।  विभिन्न वर्गों के लिए नीट कि परीक्षा इस प्रकार से है।

  • OBC वर्ग के विद्यार्थियों को एक 137 और 108 के बीच नीट की परीक्षा पास करने के लिए अंक लाना होता है 
  • SC वर्ग के लिए नीट की परीक्षा में पास होने के लिए भी 137 और 108 के बीच अंक लाना होता है। 
  • ST वर्ग के लिए नीट के परीक्षा में पास होने के लिए 137 और 108  के बीच अंक लाना होता है। 
  • जबकि UR/EWS वर्क के लिए नीट की परीक्षा में पास करने के लिए 137-122 के बीच में अंक लाना होता था। 

नीट की परीक्षा में cut off marks हर वर्गों के लिए अलग अलग होता था। जैसे कि मैंने आपको ऊपर में बताया है कि OBC,SC,ST,EWS और UR इन सभी के विद्यार्थियों का कट ऑफ मार्क्स अलग-अलग वर्गों के लिए अलग-अलग निर्धारित किए गए थे।

जबकि इन अलग-अलग विद्यार्थियों को नीट की परीक्षा में पास करने के लिए कुछ निर्धारित आंको को लाना होता था।

तभी जाकर के नेट की परीक्षा में पास माने जाते थे। जो विद्यार्थी नीट की परीक्षा में उच्च अंक हासिल कर लेते थे।

उन्हें उच्च शिक्षा के लिए अवसर दिए जाते थे। यानी कि उच्च मेडिकल संस्था में दाखिला होने का अवसर होता जाता था। नीट की परीक्षा का रिजल्ट NTA के माध्यम से प्रकाशित कर दिया जाता है। 

प्राइवेट कॉलेज के लिए नीट एग्जाम में कितने नंबर चाहिए (Neet exam in private college in hindi)

प्राइवेट कॉलेज के लिये नीट की एग्जाम में कितना नंबर लाना चाहिए होता है। प्राइवेट मेडिकल कॉलेज के लिए नीट की परीक्षा में लगभग 550 अंक लाने होते हैं। तो ही आप प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन करा सकते हैं।

प्राइवेट कॉलेजों में सरकारी कॉलेजो या यूनिवर्सिटी से अधिक लागत आती है। काफी सारे ऐसे भी होते हैं। जो कि एक बार खुले से आई होने वाली सेटिंग बुधन करना पड़ता है। जबकि सरकारी कॉलेज में या यूनिवर्सिटी में कोई ऐसी एक्स्ट्रा अधिका फीस नहीं लगती है। 

सरकारी मेडिकल कॉलेज के लिए नीट एग्जाम में कितने नंबर चाहिए (Neet exam in government college in hindi)

सामान्य वर्ग के विद्यार्थियों के लिए सरकारी मेडिकल कॉलेज या यूनिवर्सिटी में एडमिशन लेने के लिए नीट परीक्षा कि बात किया जाए। तो इसमें 620 से अधिक अंक लाना जरूरी होता है। तभी जाकर के आप एक गवर्नमेंट कॉलेज या यूनिवर्सिटी में एडमिशन करा सकते हैं। 

सामान्य वर्ग के विद्यार्थियों के लिए राज्य लेवल पर अगर सरकारी कॉलेज की बात करें। तो सरकारी कॉलेज में दाखिला लेने के लिए नीट की परीक्षा में कम से कम 585 से लेकर के 590 अंक का होना जरूरी होता है। 

ALSO READS:–

FAQ’S:– नीट में सिलेक्शन के लिए कितने मार्क्स चाहिए?

Qsn:- नीट में सिलेक्शन के लिए कितने मार्क्स चाहिए?

Ans:- नीट में के सिलेक्शन लिए 140 से लेकर के 720 अंक लाना होता है। 

Qsn:- नीट में कितना मार्क्स चाहिए सरकारी कॉलेज के लिए?

Ans:- सरकारी कॉलेज के लिए न्यूनतम मार्क्स 620 अंक लाना होता है। 

Qsn:- नीट में पास होने के लिए कितना नंबर चाहिए?

Ans:- नीट में पास होने के लिए 140 नंबर चाहिए होता है। 

नीट में सिलेक्शन के लिए कितने मार्क्स चाहिए?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *